रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने पर ठगी करने के आरोप में दो लोग गिरफ्तार


कोविड-19 महामारी के दौरान फर्जी वेबसाइट बनाकर लोगों को रेमडेसिविर इंजेक्शन बेचने के नाम पर उनसे धोखाधड़ी करने के आरोप में दो लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है. उत्तर प्रदेश साइबर अपराध शाखा के पुलिस अधीक्षक प्रोफेसर त्रिवेणी सिंह ने बताया कि नोएडा सेक्टर 36 स्थित साइबर क्राइम थाने में गाजियाबाद निवासी एक महिला ने मामला दर्ज करवाया था.
उन्होंने बताया कि महिला ने अपनी शिकायत में आरोप लगाया कि उसकी मां कोरोना वायरस से संक्रमित थीं और उनके इलाज के लिए उसने एक वेबसाइट के जरिए रेमडेसिविर इंजेक्शन मंगवाने का आर्डर दिया तथा उसने इंजेक्शन के लिए राहुल नामक व्यक्ति के बैंक खाते में 1.15 लाख रुपये अंतरित किए. शिकायत के अनुसार राहुल ने पैसा लेने के बाद भी महिला को इंजेक्शन नहीं भेजा.
उन्होंने बताया कि मामले की जांच कर रही साइबर अपराध थाने की प्रभारी निरीक्षक रीता यादव ने इस संबंध में गाजियाबाद निवासी मयंक खन्ना और राजनगर निवासी यश मेहता को गिरफ्तार किया है. उन्होंने बताया कि पूछताछ में आरोपियों ने स्वीकार किया कि उन्होंने कोरोना काल में एक गिरोह बनाया तथा अस्पताल में बेड व रेमडेसिविर इंजेक्शन उपलब्ध कराने के नाम पर जरूरतमंद लोगों से लाखों रूपये की ठगी की. उन्होंने बताया कि दोनों आरोपियों को अदालत में पेश किया गया जहां से उन्हें 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेज दिया गया है.

न्यूज़क्रेडिट: freshheadline



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.