बड़ा खुलासा: पूजा समझ की शादी, वह निकली हसीना बानो, साजिश का पर्दाफाश


अयोध्या: 12 साल पहले जगवीर ने पूजा समझकर जिससे शादी की, अब उसका असली नाम सामने आ गया है. इस नाम के सामने आने के साथ ही जगवीर को इस्लाम कबूल करने का अल्टीमेटम मिला. धमकी दी गई कि अगर उसने इस्लाम नहीं कबूल किया था तो उसका सिर कलम कर दिया जाएगा. पुलिस ने धमकी देने वाले आरोपी को मुठभेड़ में गिरफ्तार कर लिया है.
12 साल पहले पूजा की जगवीर से शादी होती है. उसके दो बच्चे आयुष और शगुन का जन्म होता है. शादी के 12 साल बाद अब जाकर खुलासा होता है कि पूजा तो पूजा नहीं हसीना बानो है. यह अजीबोगरीब मामला अयोध्या के हलकारा का पुरवा का है. बात यही तक नहीं है बल्कि 2 साल पहले से जब पूजा की पहचान सामने आने लगी तब से अब तक जगवीर की माने तो पूजा उर्फ हसीना बानो ने उनके बेटे आयुष का नाम स्कूल में अनीस लिखवा दिया.
इसके साथ ही आयुष का मौका पाकर खतना भी करवा दिया. इसको लेकर जब जगवीर ने विरोध किया तो उसे इस्लाम स्वीकार न करने पर सिर कलम कर देने की धमकियां मिलने लगी. स्थानीय कोतवाली से लेकर मुख्यमंत्री तक शिकायत करने के बाद मुकदमा तो दर्ज हो गया लेकिन जगवीर अपनी जान के भय को लेकर अफसरों से लेकर संत-महंतों तक के चक्कर लगा रहा है.
इस पूरे मामले को समझने के लिए 12 साल पीछे जाना होगा. जगवीर के जीजा राम जन्म कोरी को तत्कालीन फैजाबाद रेलवे स्टेशन के बाहर एक युवती मिलती है, जो अपना नाम पूजा बताती है और कहती है कि उसके घर में कोई नहीं है. रामजन्म उसको लेकर जगवीर के पास आते हैं और पूरा मामला बताते हुए कहते हैं कि निराश्रित है, इससे शादी कर लो, इसे आसरा मिल जाएगा.

जगवीर पहले उससे कोर्ट मैरिज करता है और उसके बाद 2012 में उससे हिंदू रीति रिवाज से शादी करता है. इस शादी में लड़की के परिवार से कोई शामिल नहीं होता क्योंकि उसके अनुसार उसके कोई परिजन है ही नहीं. समय बीतता है पहले एक पुत्र आयुष का जन्म होता है जो अब 10 वर्ष का हो चुका है इसके बाद एक पुत्री शगुन भी इनके परिवार के जन्म लेती है.
अपनी पहचान छुपा कर शादीशुदा जिंदगी जी रही हसीनाबानो पर जगवीर को शक तब हुआ जब उसने अपने बच्चों को एक दिन नमाज पढ़ाते हुए देख लिया. विवाद हुआ तो पत्नी अपने बच्चों को लेकर प्रतापगढ़ चली गई,जहां उसका मायका बताया जाता है. वापस लौटी तो कुछ दिन बाद जगवीर को पता चला कि बेटे आयुष का खतना भी करा दिया गया है.

इसके बाद दोनों में विवाद हुआ तो पूजा उर्फ हसीना बानो के माता पिता एक स्थानीय दबंग राजू उर्फ नसीर के साथ उसके घर पहुंचे और मुस्लिम धर्म अपनाने की सलाह दी. इसके बाद से जगवीर पर मुस्लिम धर्म अपनाने नहीं तो सिर कलम करने का दबाव नसीर बनाने लगा. इस बारे में लगातार शिकायत के बाद अयोध्या कोतवाली में 18 सितंबर को राजू उर्फ नसीर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया और फिर मुठभेड़ के बाद नसीर को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया.
जगवीर को शादी के इतने सालों बाद पूजा उर्फ हसीना बानो से मिले धोखे को लेकर मलाल तो है ही साथ ही साथ उसे अपने बच्चों की भी फिक्र है और अपनी जान की भी, इसीलिए वह पुलिस अफसरों से लेकर संत-महंतों तक के चक्कर लगा रहा है. गुरुवार को वह तपस्वी छावनी के संत परमहंस के पास पहुंचा जिन्होंने इसे अलग तरह का जेहाद बताया और कहा कि यह पहली बार सामने आया है कि मुस्लिम लड़की हिंदू बन करके शादी करे.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published.