ब्रेकिंग: साइरस मिस्त्री एक्सीडेंट मामला, आया ये नया अपडेट


एसपी बालासाहेब पाटिल ने कहा कि इस मामले में जांच जारी है. शुरुआती तकनीकी रिपोर्टों के आधार पर हम कह सकते हैं कि कार ओवर स्पीड थी. कार की स्पीड 100 किमी प्रति घंटा रही होगी. दुर्घटनाग्रस्त होने पर यह 89 किमी प्रति घंटे थी. हम परिवहन विभाग के अधिकारियों के साथ सड़क की स्थिति में सुधार के लिए साथ काम कर रहे हैं.
अधिकारियों ने कहा कि जहां एक्सीडेंट हुआ था वहां स्पीड 40 किमी प्रति घंटे तय की गई है. यहीं से सूर्य नदी पुल के लिए रोड विभाजित हो जाती है. बीते सोमवार को पालघर के पुलिस अधीक्षक बालासाहेब पाटिल ने राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI), राजमार्ग रखरखाव ठेकेदार और लोक निर्माण विभाग (PWD) के अधिकारियों से मुलाकात की. जिसमें निर्णय लिया गया कि हाईवे पर चार अलग-अलग जगहों पर एंबुलेंस उपलब्ध कराई जाए ताकि घायलों को इलाज के लिए अस्पताल पहुंचाया जा सके.
एसपी पाटिल ने कहा कि दुर्घटना संभावित क्षेत्र में हादसों से बचने के लिए नोटिस बोर्ड लगाने, सड़क काटने से रोकने, वाहनों की गति को कम करने के लिए रंबलर स्ट्रिप्स लगाने, गड्ढों को भरने का सुझाव दिया गया. इसके साथ ही NHAI को तीन सप्ताह में ये उपाय पूरा करने का आदेश भी दिया गया.
अधिकारियों द्वारा ओवर स्पीडिंग के दावे पर अखिल भारतीय वाहन चालक मालक महासंघ के प्रवक्ता, हरबंस सिंह ने कहा कि यह सच नहीं है कि उस खंड पर गति सीमा 40 किमी प्रति घंटा है. फ्लाईओवर पर ऐसा कोई साइन बोर्ड नहीं था. बिना साइनेज के हाईवे पर स्पीड लिमिट 80 किमी प्रति घंटा है. अब कोई यह स्वीकार कर सकता है कि कार 80 किमी प्रति घंटे से ऊपर थी लेकिन ‘धीमी गति से चलें’ जैसे साइनेज लगाने से ड्राइवर को मदद मिलती. अब सिग्नल लगा दिए गए हैं जो दुर्घटनास्थल के बहुत करीब हैं.

बीते 4 सितंबर को महाराष्ट्र के पालघर में मुंबई-अहमदाबाद हाईवे पर हादसे में साइरस मिस्त्री (54) का निधन हो गया था. उनके साथ कार में सवार जहांगीर पंडोले की भी मौत हो गई थी. वहीं कार ड्राइव कर रहीं डॉ. अनाहिता पंडोले और उनके पति डेरियस पंडोले को हल्की चोटें आई थीं. साइरस के सिर में चोट लगी थी और इंटरनल ब्लीडिंग हो रही थी.
बता दें कि साइरस मिस्त्री टाटा संस के छठवें अध्यक्ष बनाए गए थे. उन्हें अक्टूबर 2016 में अचानक पद से हटा दिया गया था. रतन टाटा के सेवानिवृत्त होने की घोषणा के बाद साइरस ने दिसंबर 2012 में अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाला था. एन चंद्रशेखरन ने बाद में टाटा संस के कार्यकारी अध्यक्ष के रूप में पदभार संभाला.



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *