ये क्या…! फांसी के फंदे पर लटकी थी महिला, तभी हुआ ये…


बिजनौर: उत्तर प्रदेश के जिले बिजनौर में फांसी लगा रही एक महिला की जान पुलिसकर्मियों की वजह से बच गई. पुलिसकर्मियों ने मौके पर पहुंचकर महिला को बचा लिया. उन्होंने फांसी के फंदे पर लटकी महिला को उतारा. फिर उसके पति से CPR (चेस्ट पंपिंग और मुंह से सांस दिलवाना) दिलवाया. जैसे ही महिला ने सांस लेना शुरू किया, उसे तुरंत अस्पताल पहुंचाया गया. घटना का वीडियो भी वायरल हुआ है.
बताया जा रहा है कि अगर एक मिनट की भी देरी होती तो महिला की जान जा सकती थी. फिलहाल महिला का इलाज जारी है. वहीं, पुलिस के इस सराहनीय कार्य की हर तरफ चर्चा हो रही है.
वायरल वीडियो बिजनौर के मोहल्ला प्रगति बिहार का है. यहां रहने वाले इशांत उर्फ संजू का अपनी पत्नी निक्की से किसी बात को लेकर विवाद चल रहा था. दोनों में ज्यादा विवाद होने के कारण किसी ने इसकी सूचना पुलिस कंट्रोल रूम को दी. सूचना मिलते ही कोतवाली शहर थाने में तैनात दरोगा गौरव चौधरी, सिपाही अचिन चौधरी, शुभम सरोहा और प्रवीण चौधरी मौके पर पहुंची.
इसी बीच निक्की ने जान देने के इरादे से खुद को कमरे में बंद कर लिया और पंखे से दुपट्टा बांधकर फांसी लगा ली. पुलिस ने तुरंत कमरे का दरवाजा तोड़ा और निक्की को फांसी के फंदे से उतारा. महिला बेसुध हो गई थी. वह सांस भी नहीं ले पा रही थी. तभी पुलिस ने उसके पति से CPR दिलवाया. 10 मिनट के बाद महिला को होश आने लगा तो तुरंत उसे अस्पताल पहुंचाने के लिए एंबुलेंस बुलवाई. एंबुलेंस आने में कुछ समय लग रहा था, जिसके चलते दारोगा गौरव चौधरी महिला को किसी दूसरी गाड़ी से ही अस्पताल लेकर पहुंच गए.
समय पर अस्पताल पहुंचने से महिला की जान बच गई. फिलहाल उसका इलाज जारी है. लेकिन इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर खूब वायरल हुआ है. लोग पुलिस की इस सराहनीय कार्य के लिए जमकर तारीफ कर रहे हैं.
पूरे मामले पर एसपी सिटी बिजनौर डॉ. प्रवीण रंजन सिंह का कहना है कि 2 दिन पहले मोहल्ला प्रगति बिहार से पुलिस को एक सूचना मिली थी कि पति-पत्नी में झगड़ा हो रहा है और महिला ने पंखे से लटक कर फांसी लगा ली है. इस सूचना पर पुलिस जब मौके पर पहुंची तो महिला फंदे से लटकी हुई थी. लेकिन पुलिसकर्मियों ने सक्रियता दिखाते हुए तुरंत उसे फंदे से उतारा. उसे CPR दिलवाया गया फिर First Aid देकर अस्पताल पहुंचाया. फिलहाल महिला से पूछताछ की जा रही है कि आखिर उसने ये कदम क्यों उठाया?



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *